अरमान जगाएं


इतना सोच समझ के
कब तक चलेंगे खुद से बच के
क्यों न फिर बेपरवाह हो जाएँ
एक दूजे में फिर से खो जाएंं ।

थोड़ा इठला के शर्मा के
थोड़ा मुस्कुरा गुनगुना के
शिकायतों को तमाशा दिखाएँ
मीठी यांदो को दावत पे बुलाएँ ।

बिखरी बांतो को समेट के
बांधो गठरी जरा कास के
 सफर बहुत है लम्बा
कहीं गाँठ खुल न जाए ।

देखता है कौन छुप छुप के
आज जाने ना पाये बच के
उसे छेड़े गुदगुदाए , सताए
उस अजनबी से नयन लड़ाए ।

ना समझ की बांते, ना आज कोई टोके
शोर मचाएं तोड़ टांग सुरों के
जलती रहीं मशाले, बुझ गए अरमान
आज मशालों को बुझा के फिर से अरमान जगाएं ।

Nishikant Tiwari

Hindi Love poem




Comments

  1. बहुत खूब!
    आइए मेरे ब्लॉग https://abhishantsharma.blogspot.com पर और अपने विचार प्रस्तुत करें। धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब!
    आइए मेरे ब्लॉग https://abhishantsharma.blogspot.com पर और अपने विचार प्रस्तुत करें। धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. Hi Nishikant,
    Good Job!
    Kindly visit http://hindicreator.blogspot.com/ for more poems and Ghazals.

    ReplyDelete
  4. Finest Hindi & English poetry
    Like to read the poetry that describes life & also have fun quotient in it. https://whitecanvasblackmargins.com/ is your hub to get the regular dose of heartwarming poetry. So, subscribe to this blog & enjoy the first rated poetry.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

तीन नमूने

कविता की कहानी (Hindi Love Stories)

A Lost Love (short story)